Loading...

Featured Post

Happyness

 खुश रहना हर व्यक्ति की चाहत है परन्तु अपनी खुशी को हम किसी व्यक्ति, वस्तु भोग पूर्ति व अन्य कारणों से चाहते है और वह वस्तु स्वयं की ख़ुश...

अधूरा सच

अधूरा सच

कुछ रहीं अधूरी सच जैसी ये जिंदगी, खामोश खड़े पहाड़ों सी । सांसों की हर सरगम हैं ,अधूरा सच। कुछ रही अधूरी सच जैसी ये जिंदगी, बलखाती नदियों सी...
Read More

बचपन

बचपन ही अनोखा होता है, जीवन में एक छण गम से भरा, और अगला ही खुशियों का खजाना। बचपन ही अनोखा होता है, जीवन में। कोई बात न दिल पर लगती न दिमाग...
Read More

लफ्ज़

लफ्ज़ का टोटा क्यू हो जाता है, जब भी तेरी तारीफे करते हैं। मुक़म्मल सा कोई अल्फ़ाज़ तुझे बयॉ  नहीं कर पाता, दिल के शब्दों में दर्द कह देता हू...
Read More