Featured Post

Happyness

 खुश रहना हर व्यक्ति की चाहत है परन्तु अपनी खुशी को हम किसी व्यक्ति, वस्तु भोग पूर्ति व अन्य कारणों से चाहते है और वह वस्तु स्वयं की ख़ुश...

अधूरा सच

अधूरा सच

कुछ रहीं अधूरी सच जैसी ये जिंदगी, खामोश खड़े पहाड़ों सी । सांसों की हर सरगम हैं ,अधूरा सच। कुछ रही अधूरी सच जैसी ये जिंदगी, बलखाती नदियों सी...
Read More

बचपन

बचपन ही अनोखा होता है, जीवन में एक छण गम से भरा, और अगला ही खुशियों का खजाना। बचपन ही अनोखा होता है, जीवन में। कोई बात न दिल पर लगती न दिमाग...
Read More
Corrective Method of Behavior

Corrective Method of Behavior

क्या में पहल कर सकता हूँ ? में पहले पहल क्यों नहीं कर सकता हूँ ? में जब किसी से मिलता हूँ तो क्या सोचता हूँ ? में कितनी बार किसी को पहले बधा...
Read More
Sotution of Fear.....?

Sotution of Fear.....?

डर अपने द्वारा कहे गये शब्दो के चयन से | किसी के द्वारा गलत समझे जाने से | गलती होने पर उसको सुधारने का चिंतन करने के बजाय आत्म आलोचना से | ...
Read More

लफ्ज़

लफ्ज़ का टोटा क्यू हो जाता है, जब भी तेरी तारीफे करते हैं। मुक़म्मल सा कोई अल्फ़ाज़ तुझे बयॉ  नहीं कर पाता, दिल के शब्दों में दर्द कह देता हू...
Read More

रिश्तेदारी

रिश्तेदारी🤝 मजबूर नहीं मजबूत बन जाती हैं जिंदगी, ये है तेरी रिश्तेदारी। बंधन नहीं बंदगी बन जाती हैं जिंदगी, ये ह...
Read More

कोरा कागज और में

कोरा कागज और में कोरा कागज और में दोस्त हैं, बचपन के। जब पहली बार देखा कोर कागज, तो देखा में भी उस के जैसा कोरा हू। अब कोर कागज मुझे बुलाता ...
Read More

प्यार का उपन्यास

हर पंक्ति अधूरी  लिखी गई है, मेरे प्यार के उपन्यास में। जब भी पी से मिलन की पंक्ति आती है, बिछड़ने की पंक्ति लिखी गई है, मेरे प्यार के उपन्य...
Read More

Happyness

 खुश रहना हर व्यक्ति की चाहत है परन्तु अपनी खुशी को हम किसी व्यक्ति, वस्तु भोग पूर्ति व अन्य कारणों से चाहते है और वह वस्तु स्वयं की ख़ुश...
Read More
" धर्म छेत्रे कुरुचित्रे समवेता युयुतसव : | मामका : पांण्डवाचैव किम कुर्वत संजय | | " शरीर को धारण कर उस शरीर से कर्म करने पर, उस ...
Read More

भव सागर

क्या मैंने इस भव सागर में इस लिए प्रवेश किया है कि में भव के भावों में बहता जाऊ। मुझे एक गहरे गोते खाने की जरूरत है, और ढूंढ  लाऊ वो अनमोल...
Read More
4 stage of god

4 stage of god

4 stage of god पहली अवस्था में सभी वस्तुओं का बाह्य निर्माण god द्वारा होता है | ( जैसे हमारे शरीर का विकास, निर्माण और अनुपयुक्त अंग या वस्...
Read More