अच्छा दिखने के लिए सही परिस्थिति होनी चाहिए

अच्छा दिखने के लिए सही परिस्थिति होनी चाहिए

"अच्छा दिखने के लिए सही परिस्थिति होनी चाहिए,
 परन्तु अच्छा होने के लिए होना होता है"|

"विचारों का एक अनियंत्रित प्रवाह हमारी जीवनचर्या को राछसी बना देता है वही दूसरी और विचारों का नियंत्रित सुपरवाह देवचर्या में प्रवेश पाने के लिए पात्रता होती है |
फल एक अद्भुत माया है; और इस मायाजाल में हर जिव अटका हुआ है | वास्तव में हमें केवल कर्म प्राप्त होता है, फल का कोई वास्तविक अस्तित्व है ही नहीं, यह मात्र एक भ्रम ही है" |

"इन्द्रियों के विषयों की पूर्ति होने पर जो आनन्द अनुभव होता है, वस्तुतः वह मन की माया है" |

Previous
Next Post »